आज का विचार-‘‘आसक्ति’’

Share this on :

हम जब लोगों को किसी ना किसी चीज से Attachment हो जाता है, आसक्ति हो जाती है और ये आसक्ति हमारे दुःखों का कारण बनता हैं, तो सवाल यह बनता है कि Attachment यानि आसक्ति को दूर कैसे भगाया जाए?
मैं आपको एक Idea देता हूँ, आसक्ति को हटाने के लिए आपको जिस चीज में आसक्ति है, उसमें कमियां देखनी होगी, जैसे-जैसे कमियां ढ़ँूढ़ते जायेंगें, आसक्ति कम होती जाएगी।

‘‘आप आसक्ति को हटाना चाहते है, तो आपको जिस चीज से
आसक्ति हो, उस चीज में कमियां ढ़ूँढ़ना आरम्भ करना चाहिए।

Attachment

It is said that attachment is the source of all our sorrows. Then how do we get rid of our attachments? I have an idea. Start looking for flaws in the object of your attachment. As the list of the flaws will increase, your attachment to the object will weaken.

Prof. Sanjay Biyan

Share this on :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *