आज का विचार- ‘‘आकाश‘‘

Share this on :

आज का विचार है आकाश ।

आकाश यानि कि ‘‘विस्तार‘‘। आकाश यानि ज्ञान । मुझे लगता है हम आकाश के साथ जिस तरह पेश आते है। आकाश भी हमारे साथ वैसे ही पेश आता है। यदि हमें हमारे जीवन में विस्तार चाहिए, ज्ञान चाहिए, नई सोच चाहिए तो हमें आकाश के प्रति कृतज्ञ होना पड़ेगा। सूर्योदय के समय एवं सूर्यास्त के समय आकाश की ओर देखे एवं अपनी कृतज्ञता व्यक्त करे।

‘‘ज्ञान के विस्तार के लिए आकाश के प्रति कृतज्ञ बनें।‘‘

Sky

Today’s thought is ‘sky’. Sky means expansion. Sky means knowledge. I believe that the sky reciprocates our attitude towards it in the same coin. If we want to expand our horizons of knowledge and rational thinking, then we must express our gratitude towards the sky. We should do it every day at sunrise and sunset.

‘To expand the horizon of knowledge, be grateful to sky.’

Prof. Sanjay Biyani

Share this on :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *