आज का विचार-‘‘एकाग्रता’’

Share this on :

मन…., मन यानि बहुत सारे विकल्पए जब मन बहुत सारे विकल्प में लग जाता है तो हमारी इच्छाशक्ति बहुत कमजोर हो जाती है। लेकिन यही मन जब किसी सही विकल्प पर लग जाता है तो इसे एकाग्रता कहत है। अगर हम चाहते है कि हम एकाग्र बने तो मन को किसी एक विकल्प पर लगाना होगा।

‘‘मन बहुत से विकल्प प्रस्तुत करता है,
लेकिन मन को किसी एक विकल्प पर लगा देने से एकाग्रता बढ़़ जाती है।’’

Concentration

Too many options distract us, making our performance mediocre. Our concentration increases manifold when we have only one option before us.

Prof. Sanjay Biyani

Share this on :

आज का विचार-‘‘टालमटोल‘‘

Share this on :

कुछ लोग काम को टालते रहते है। आज नहीं, कल करेंगं, और उनका वो कल कभी नहीं आता है। जरा सोचिए ऐसा क्यों होता है?
मैं बताता हूँ आपको, ऐसा इसलिए होता है कि वो जो भी काम कर रहे है, उन्हें उसमें बिल्कुल भी रूचि नहीं है। या तो आप रूचिकर काम करिये या काम को रूचि बना लीजिए।

‘‘आप रूची कर काम किजिए,
या फिर काम को रूचिकर बनाये’’

Procrastination

Some people keep postponing their works to other day. They do so because the work at hand doesn’t interest them. A man should either take up a work of interest, or make his work interesting.

Do you work interesting or make the job interesting

Prof. Sanjay Biyani

Share this on :