आज का विचार-‘‘फूल और काँटे’’

Share this on :

कुछ लोग फूल को देखते हैं, और देखकर बोलते हैं वाह भई वाह क्या फूल हैघ् ….हाँ थोडे बहुत काँटे हैं, लेकिन इस फूल की सुरक्षा के लिए आवश्यक भी हैं और दूसरी जगह कुछ लोग कहते हैं कि अरे क्या फूल, काँटे ही काँटे, फूल तो सिर्फ दिखावे का है। आप सोचिए कि, आप कैसे सोचते हैंघ् पोजेटिव सोचते हैं या नेगेटिव सोचते हैं।
‘‘जीवन में हम पर यह बात निर्भर करती है
कि हम कैसा सोचें, पोजेटिव या नेगेटिव’’

Flowers and thorns

Some people look at a flower and praise its beauty. They understand that thorns exist to protect flowers. But others criticize thorns, instead of enjoying the flower’s beauty. The flowers and the thorns have always been together. Which side to look at entirely depends on your outlook. So develop a positive attitude in life.

Positive attitude makes life easy and happy.

 Prof. Sanjay Biyani

Share this on :